Koshish

किसी ने की कोशिश
दो कदम चलने की
उस नुक्कड़ पर फिर से मिलने की
कोई कदम पहुँचे ही नहीं

किसी ने की कोशिश
लिखे ख़त को पड़ने की
पन्नो पे महके अल्फ़ाज़ समझने की
कुछ ख़त लिफ़ाफ़ों से निकले नहीं

किसी ने की कोशिश
दबी आवाज़ को सुनने की
अनकहे लफ़्ज़ों को समझने की
कुछ शोर अनसुने ही रहे

किसी को सुनाई दिया
किसी से हुई मुलाक़ात
किसी को आया समझ
किसी की नियत ही नहीं

Published by SatishStories

I am a dreamer I weave tales in my mind I am connected to you through these words Through this screen across the virtual world I my tales within

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: