How Golf taught me the laws of Karma

The tee was placed at an appropriate height. The puckered ball propped just high enough above the blades of grass to align with the sweet spot of the driver club. I shuffled the feet and placed the tee in line with the heal of my left foot. The left arm was straight as the bodyContinue reading “How Golf taught me the laws of Karma”

Alive

किस बात का गम हैकिस बात की है ख़ुशीक्यूँ आज आँखें नम हैऔर होंठों पे है हँसी किसका इज़हार करते हैंक्या है जो छुपाते हैंकौनसा सच हैंऔर किसको सच समझ जाते हैं ऐसा मातम क्यूँ हैकिसके जनाज़े पर गए हैं सभीसाँस शायद रुख़ गयीं हैपर ज़िंदा हूँ में अभी