Meri parchai dhoondhta hoon inme

उन ऊँचाइयों से देखा हैज़िंदगी को उड़ते हुएहवाओं का रुख़ जिस तरफ़ थाउसी रुख़ बहते हुए सूरज को ढलते देखा हैडूबते क्षितिज को रंगते हुएजैसा रंग खुद का थाउसी रंग में घुलते हुए पानी को बहते देखा हैठहरे पथरों पर छलाँगे भरते हुएजिस तरफ़ उसका अंत थाउसी समंदर की तरफ़ मदमस्त बहते हुए रोशनी कोContinue reading “Meri parchai dhoondhta hoon inme”

Work in Progress

Debris strewn Scaffoldings fixed All preparations are in place The sign is up for all to see The work is in progress The stones and shingles, reunite in the rolling concrete separated from their mighty father By exploding holes, filled with fire The work is in progress Machines still obey The hands that push theContinue reading “Work in Progress”

In the clouds there lies a castle

In the clouds There lies a castle Fluffy and white With the roof of blue sky It floats in air Grand and light There are rooms in plenty All airy and bright The balcony extends Over where the moon waits Oh what a sight You can eat as much you want And whatever you wishContinue reading “In the clouds there lies a castle”

Khwabon ka kaphila

ऐसा कौनसा ख़्वाब है जो सच्चा ना लगा ऐसा कौनसा मौक़ा है जो मुमकिन ना लगा पर सचाई और ख़्वाब में शायद नींद खुलने का फ़रक है नींद खुली और आँखें मलि आँखों के मैल के साथ सारे ख़्वाब भी धूल गए दिन की भाग दौड़ में वो मौक़ा भी खो गया हक़ीक़त बनने काContinue reading “Khwabon ka kaphila”