Let’s shuffle the cards

Cards are shuffled One card is picked One specific suit Of a particular colour is chosen The identity is decided And that decides the game All actions bound by the rules the wins and the losses based on the set hierarchy each dealt hand judged They turn into a pile of cards eventually of winnersContinue reading “Let’s shuffle the cards”

मुखौटे

ऐसा कुछ है जो भूल गया शायद कोई बात है जो कहते कहते रह गया। थोड़ी हिचक थोड़ी शर्म रोक टोक और अनदेखा भ्रम। ज़िन्दगी की सीख से चुनी रसमों की दीवारों में सही और गलत रंग की सियाही से लिखे दकियानूसी रिवाजों ने एक एक कर दफनाया है कई सहमें से ख्वाबों को। ऐसेContinue reading “मुखौटे”