Meri parchai dhoondhta hoon inme

उन ऊँचाइयों से देखा हैज़िंदगी को उड़ते हुएहवाओं का रुख़ जिस तरफ़ थाउसी रुख़ बहते हुए सूरज को ढलते देखा हैडूबते क्षितिज को रंगते हुएजैसा रंग खुद का थाउसी रंग में घुलते हुए पानी को बहते देखा हैठहरे पथरों पर छलाँगे भरते हुएजिस तरफ़ उसका अंत थाउसी समंदर की तरफ़ मदमस्त बहते हुए रोशनी कोContinue reading “Meri parchai dhoondhta hoon inme”

Khwabon ka kaphila

ऐसा कौनसा ख़्वाब है जो सच्चा ना लगा ऐसा कौनसा मौक़ा है जो मुमकिन ना लगा पर सचाई और ख़्वाब में शायद नींद खुलने का फ़रक है नींद खुली और आँखें मलि आँखों के मैल के साथ सारे ख़्वाब भी धूल गए दिन की भाग दौड़ में वो मौक़ा भी खो गया हक़ीक़त बनने काContinue reading “Khwabon ka kaphila”

Two stranger eyes

Two eyes meetStrangers are they bothThe gaze stay a bit longerEach mind sees and knows Each eye mirroringthe person insideBoth sad and forlorn withinWhat the cloths failed to hide No recognitionNone of the worldly relationsThe fleeting moments,Were their only connections In the intersecting momentsTwo lives convergedtwo forlorn eyes connectedNo rich no poor The moments passedTwoContinue reading “Two stranger eyes”

Closer to Core

Spinning like a topConstantly in motionedges moving fasterSlowly moves the core If I would stopI would fallFearful of not spinningAfraid, of being ‘me’ no more On pointed endI hang in balanceForever in pursuitdrilling through the floor Force of the chordwould eventually expireinevitable would happenSpinning top would spin no more With the last wobbleThe top fallsItContinue reading “Closer to Core”