Who does it belong to (कौन है मालिक)

ड्रॉइंग रूम में सजी हर चीज़ जो किसी कारीगर की नायाब कारीगरी थी जिसे मजबूर हो कर बेचा गया था जो कभी दुकान के कोने में धूल से लथपथ अपने गले में अपनी क़ीमत लटकाए बेज़ुबान पड़े थे आज मेरे घर की रौनक़ है मोल दिया है अब वो सब मेरे हैं शायद ये एहसासContinue reading “Who does it belong to (कौन है मालिक)”

Aaj bhi vaisa hi

इन उँगलियों पे लिपटी वो हसरत भरे नरम हाथ मासूम नज़रों से ताकती वो नज़र और वो एहसास आज भी वैसे ही है दौड़ के सीने से लगना खुश हो कर कंधो पर झूल जाना हर आप बीती बयान करना वो चुलबुली सी बातें आज भी वैसे ही हैं उस शरारती कोने में छिपा हुआContinue reading “Aaj bhi vaisa hi”

Unbridled Laughter बेफ़िक्र बिंदास हँसी

होंठों से आँखो तक पहुँचतीफिर आयी वो हँसीबेफ़िक्र बिन्दासवही ठहाकों वाली हँसी दोस्तों की बातों मेंपुराने लम्हे फ़िर ताज़ा हुएकुछ क़िस्से जो याद थेकुछ चुपचाप भुलाए हुए हंसते हंसते शायदग़ुस्ताख़ आँखें भर आयीकुछ देर जैसे अनबुलायीचुप्पी सी छागयी अपने ख़यालों में चुपचापसबने अपनी ज़िंदगी फिर जी लीखामोशी ने सबकी कहानीचीक चीक के सुना दी स्क्रीनContinue reading “Unbridled Laughter बेफ़िक्र बिंदास हँसी”

दीवार पे तस्वीर

दीवारों पे टंगी तस्वीर नेबेजुबान कई कहानियांअतीत की आवाज़ चुरा करआज मुझे सुनाया है कैद कर वो लम्हातस्वीरों के बेजान पन्नों परफिर आज जैसेवही एहसास लौट आया है नज़र धुंधला गई हैआंखे नम हो गई हैतस्वीर वहीं दीवार पे थम गई हैपर अरमानों ने उड़ान भर ली है समय की सूइयों कोमोड़ने का ख्याल आयाContinue reading “दीवार पे तस्वीर”

Cocooned in time

There they are,imaculate and purecocooned in innocenceuntouched by life We have moved onweaving our destiniesthrough fuzzy maze of timewith our own tussles and strife ‘Then’ has drifted away from the ‘Now’seperated by layers of timeeach twist n turn charting separate pathseach moment playing a dice That moment still floatsserene in my mindfar away to touchContinue reading “Cocooned in time”