The rock splits the river

The rock splitsthe river in twoWhy did you do that?The rock was askedI am big and strong it repliedThat is why! The river flows on either sideLetting the rock be in the centreWhy did you do that?The river was asked.I flow eternallyThat is why! The rock won, they all criedRiver sang gleefullyRock is rooted, IContinue reading “The rock splits the river”

Tum toh main hoon

क्यों चाहता हूँ तुमकोतुम तो मैं हूँ पाने की ख्वाहिश नहींतुम तो मैं हूँ खोने का ख़ौफ़ नहींतुम तो मैं हूँ क्या सुनना हैबस शोर हैशोर इतना गूंजाकी खामोशी हो गयी तुमसे मुलाक़ात जो हुईखुद से पहचान हो गयी

There somewhere lies the story

In the closed bookLies a storyOf past memoriesmixed with fantasy Eyes read the writtenWords conjure the pictureMind weaves the storiesSome regular, some crazy In that lies that white housewith that fence, bright greenThose flowers in the gardenRose, lily, daffodils and daisy Those thoughts and feelingsAnger, envy and loveThose relations and conversationsSome silent, some noisy ThatContinue reading “There somewhere lies the story”

I still don’t win

It’s cold and windy My body lays bare The nature pitted against me It’s not even fair I close my eyes And I am still The wind passes me by I feel no chill In this battle with nature I still don’t win Because it’s not out there It’s there within

Aaj bhi vaisa hi

इन उँगलियों पे लिपटी वो हसरत भरे नरम हाथ मासूम नज़रों से ताकती वो नज़र और वो एहसास आज भी वैसे ही है दौड़ के सीने से लगना खुश हो कर कंधो पर झूल जाना हर आप बीती बयान करना वो चुलबुली सी बातें आज भी वैसे ही हैं उस शरारती कोने में छिपा हुआContinue reading “Aaj bhi vaisa hi”

Unbridled Laughter बेफ़िक्र बिंदास हँसी

होंठों से आँखो तक पहुँचतीफिर आयी वो हँसीबेफ़िक्र बिन्दासवही ठहाकों वाली हँसी दोस्तों की बातों मेंपुराने लम्हे फ़िर ताज़ा हुएकुछ क़िस्से जो याद थेकुछ चुपचाप भुलाए हुए हंसते हंसते शायदग़ुस्ताख़ आँखें भर आयीकुछ देर जैसे अनबुलायीचुप्पी सी छागयी अपने ख़यालों में चुपचापसबने अपनी ज़िंदगी फिर जी लीखामोशी ने सबकी कहानीचीक चीक के सुना दी स्क्रीनContinue reading “Unbridled Laughter बेफ़िक्र बिंदास हँसी”