Infected

ingress of the unseena touch of anotherFrom one of usInadvertent and unknowing In us it residesIn me it thrivesIn me it livesUnseen and undetected I changeIt changes meit’s presence withinmakes me a threatAvoided and Detested To be lockedFrom others as meTo save the restTill it dies withinConfined and protected It is stopping usFrom being whatContinue reading “Infected”

Aaj Vela hoon

आज अकेला हुंसुबह से वेला हूंदुनिया को बचानेअपने घर पे सोयेला हूं भ्रमण कर आजघर वापस आया हूंकश्मीर से कन्याकुमारी का सफरवास्तव में कर आया हूं इंसान को ६ फीट दूर से देखा तोथोड़ा डरा हुआ पाया हैहर आंखों में शक और कौफ का साया भरपूर नजर आया है इस नासूर वायरसका वास्ता है डरContinue reading “Aaj Vela hoon”