मुखौटे

ऐसा कुछ है जो भूल गया शायद कोई बात है जो कहते कहते रह गया। थोड़ी हिचक थोड़ी शर्म रोक टोक और अनदेखा भ्रम। ज़िन्दगी की सीख से चुनी रसमों की दीवारों में सही और गलत रंग की सियाही से लिखे दकियानूसी रिवाजों ने एक एक कर दफनाया है कई सहमें से ख्वाबों को। ऐसेContinue reading “मुखौटे”

Woman’s Day?

The hair fell in a neat bunch on the apron, as the skilled hands of the barber, cut them to size. I knew the curling locks would be fun and fashionable, but was also aware that the norms were not what they adhered to. My hair style is for others to like. They liked itContinue reading “Woman’s Day?”